17 जनवरी 2023 को शनि मकर राशि से निकलकर कुंभ राशि में गोचर करने जा रहे हैं. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंभ शनि की स्वराशि है. ऐसे में अगर आपकी कुंडली में शनि का राजयोग बन रहा है, तो ये योग आपकी किस्मत बदलने वाला है. बता दें कि शनि का राजयोग बहुत लकी होता है. व्यक्ति को बैठे-बैठे ही मालामाल बना देता है. आइए जानें शनि राजयोग कैसे बनता है और किन राशियों को होगा लाभ.

ऐसे बनता है शनि का राजयोग

ज्योतिष अनुसार शनि के राजयोग को शश योग के नाम से भी जाना जाता है. इस योग का निर्माण तब होता है जब कुंडली के लग्न या चंद्रमा से पहले, चौथे, सातवें और दसवें घर में शनि अपनी उच्च राशि मकर, कुंभ या फिर तुला में विराजमान होते हैं. इस राजयोग के बनने से व्यक्ति किसी भी रोग से जल्द मुक्त होता है. ये जातक की आयु में वृद्धि करता है. कुंडली में शनि का राजयोग व्यक्ति की आर्थिक स्थिति को बहुत मजबूत करता है. और व्यक्ति पर ढैय्या और साढ़े साती का प्रभाव नहीं पड़ने देता.

मेष राशि

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस समय राहु मेष राशि में विराजमान हैं और अगले साल बृहस्पति मेष राशि में विराजमान रहेंगे. बता दें कि शनि मेष राशि के एकादश भाव में गोचर करने जा रहे हैं. ऐसे में धन-संपत्ति को लेकर आपकी किस्मत बदलने वाली है. इस दौरान नौकरी और व्यापार में उन्नति मिलेगी. आय में वृद्धि की पूरा संभावना है.

वृषभ राशि

जनवरी में शनि इस राशि के दशम भाव में गोचर करने जा रहे हैं. ऐसे में कार्यस्थल पर प्रगति देखने को मिलेगी. शनि इस राशि के नवम और दशम भाव के स्वामी माने जाते हैं. ऐसे में भाग्य का साथ मिलेगा. रुके हुए कार्य पूरे होंगे.

धनु राशि

शनि आपकी राशि के तीसरे भाव में गोचर करने जा रहे हैं. इस दौरान धनु राशि के जातकों को शनि की साढ़े साती से मुक्ति मिल जाएगी. व्यक्ति को निवेश से लाभ मिलेगा. धन की बचत करने में कामयाब होंगे. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार धनु राशि के जातकों को शनि की साढ़े साती से पूरी तरह मुक्ति मिल जाएगी.

कुंभ राशि

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनि कुंभ राशि के लग्न भाव में गोचर करने जा रहे हैं, जो कि आपके स्वभाव के साथ आपकी किस्मत को भी बदल देगा. इस दौरान आपको पुराने रोगों से मुक्ति मिलेगी. पैतृक संपत्ति में आ रही बाधाएं दूर होंगी. पार्टनपशिप के काम में लाभ होगा. जीवनसाथी का पूरा साथ मिलेगा.

Category :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *