महा शिवरात्रि का दिन शिव भक्तों के लिए किसी पर्व से कम नहीं है। इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की विशेष रूप से पूजा की जाती है। फाल्गुन मास में पड़ने वाली शिवरात्रि को महाशिवरात्रि कहते हैं। भक्त भगवान शिव (Maha Shivratri Pooja) की पूजा करने के बाद महा शिवरात्रि का उपवास करते हैं। इस दिन सुख-समृद्धि, सौभाग्य और शीघ्र विवाह के उपाय किए जाते हैं। इससे जीवन के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं।
जानिए शुभ मुहूर्त

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार 2023 में महाशिवरात्रि 18 फरवरी 2023 को है। फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि 17 फरवरी को रात 8:02 बजे से शुरू होकर 18 फरवरी को शाम 4:18 बजे तक रहेगी। उदयतिथि के अनुसार 18 फरवरी को महाशिवरात्रि मनाई जाएगी। इसमें 18 और 19 फरवरी की मध्य रात्रि 12 बजकर 16 मिनट से 1 बजकर 6 मिनट तक निशीथ काल पूजा मुहूर्त शामिल है। वहीं महाशिवरात्रि व्रत का पारण मुहूर्त 19 फरवरी को सुबह 6 बजकर 57 मिनट से दोपहर 3 बजकर 33 मिनट तक रहेगा.

पूजा की विधि और समय जल्दी उठें, स्नान करें, स्वच्छ वस्त्र पहनें और भगवान के सामने हाथ जोड़कर महाशिवरात्रि व्रत का संकल्प लें। इसके बाद शिव मंदिर में जाकर शिवलिंग का अभिषेक करें और पूजा करें। यदि आप घर में पूजा कर रहे हैं तो शुभ मुहूर्त में नियमानुसार पूजा करें। इसके लिए पूजा स्थल की सफाई करनी चाहिए। उस स्थान को गंगाजल से पवित्र करना चाहिए। शिवलिंग का पंचामृत से अभिषेक करें। बेलपत्र, फूल, दीप और अक्षत से भगवान शंकर की पूजा करें। फल और मिठाइयों का भोग लगाएं। शिव चालीसा का पाठ करें। पूजा के बाद प्रसाद बांटना चाहिए। महाशिवरात्रि के दिन पूरी श्रद्धा से की गई प्रार्थना निश्चित रूप से ग्रहण करने योग्य होती है। इसलिए इस दिन भगवान भोलेनाथ की विधि-विधान से पूजा करनी चाहिए।

Category :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *